Archive: July, 2013

Remembering Comrade Dang

Remembering Comrade Dang

–         Purushottam Agrawal

Year 1982. It was a second class compartment of a Jabalpur bound train. I, along with my friend Nilanjan Mukhopadhayay, was going to Jabalpur to participate in an event against communal politics organized by IPTA. One of our fellow travelers was a quiet, almost withdrawn old gentleman, his constant reading interspersed by bouts of reflectively looking out of the window. We took him to be a retired teacher, heading home.

It was only at Jabalpur Railway station that we realized that this unassuming, quiet gentleman was comrade Satyapal Dang – the very famous and universally respected leader of the CPI. It was one of those rare occasions upon which I cursed myself for not sharing the typical Indian tendency of striking friendship and indulging in gup-shup with fellow-passengers.  But for the total absence of this tendency in Nilanjan and me, we might have used the many hours of the journey from Delhi to Jabalpur in talking with the man whose articles we used to read with deep interest.

Comrade Dang was there as the chief guest of IPTA’s event. We had long arguments – both during the sessions and afterwards. Of course, he was articulating the party-line regarding the then on-going Akali agitation in Punjab -“we must look at the ‘content’ of the agitation, i.e. the demands of the farmers, not it’s ‘form’ i.e. the utterly communal idiom and orientation”

It was difficult to agree with this dialectics, and we did not. But, comrade Dang, far from being dismissive of our concerns and suspicious of our intentions, was open to our criticisms and eager to engage on the issue.

After this meeting, we continued to receive his support and blessings in our anti-communalism activities. When, in 1983, we brought out the first issue of our inter-disciplinary journal ‘Jigyasa’, he was one of its active supporters, helping us to reach contributors and finding subscribers.  The next face to face meeting took place in 1987 when the Sampradayikta Virodhi Andolan (SVA) invited him along with Gurusharan Singh to deliver the key-note at its founding conference. The founding of the SVA was an outcome of the agony and activism of many friends like Dilip Simeon, Bhagwan Josh and others who, besides intervening to help the victims of the 1984 anti-Sikh riots and other communal incidents, were also trying to understand the true nature and implications of communal mobilizations of all hues. Comrade Dang’s address to this conference was thought-provoking, inspiring and moving. The 1984 and 1987 (Maliana) massacres had already taken place, the issue of communal mobilization had traversed way beyond the comfortable dialectic of ‘form’ and ‘content’. The country was faced with mobilizations exhibiting fascistic characteristics. Who but comrade Dang was better placed to realize this truth first hand? He heartily welcomed the founding of the SVA and its agenda of understanding the nature of ‘Indian variant of fascism’ and fighting the menace without bothering about political correctness of this or that type; without giving any concession to either the majority or the minority versions of the fascistic communal mobilization.

Comrade Dang promised all help and co-operation to us, and stood by his promise when three SVA activists – Dilip Simeon, Jugnu Ramaswami and I decided to visit Punjab in 1988. It was the period of renewed, intense militancy and we wanted to have a first-hand, direct idea of the situation.

The CPI office in Amritsar served as our base courtesy Comrade Dang. It was also his virtual residence. Moving from our ‘base-camp’ we visited many villages and towns. We went to Damdami Taksal and tried to understand the viewpoint of the Kharkus, i.e. militants themselves. We realized the trauma of a militancy ridden society. One can never forget the visit to village Vein-Puin, where a local comrade was our host. The seven year old daughter of this farmer could tell a Mauser pistol form a revolver. While the home-maker cooked food, her elder daughter stood guard with a gun in hand. When we went to the fields to answer the call of nature, the comrade Sardarji himself guarded us with gun in hand!

After all, comrades of all hues were on top of the hit-lists of the militants. It was a young member of the CPM in Amritsar who made the tongue in cheek remark- “we have been talking of Left unity for so many years; here in Punjab it has been already realized, and the credit goes to Kharkus– who treat all communists as enemy number one- without bothering about the differences in the party programs of CPI, CPM and CPI (M.L).”

This observation was confirmed by a top BJP leader as well, who was frank enough to admit, “Neither we, nor the Congress, but only the Communists are really fighting back against the militants.” The experience of those days deserves a much more extensive treatment, but here I just wish to recall the universal respect and admiration comrade Dang enjoyed not only throughout the political spectrum but also in all the sections of society. It just took one phone-call from him to make leaders of the Congress and the BJP, and of course Leftists of all types; – academicians, journalists, social workers, factory workers and farmers, open their doors to guests of ‘Kamredji’. Notwithstanding sharp ideological differences, to a senior woman leader of the BJP, now part of the national leadership of that party, Dang Saheb was nothing less than the elder brother, Bhraji. In those bleak, militancy-ridden times, comrade Dang’s dignified and courageous presence was a beacon of hope and inspiration to all.

I saw him last in 2006 when he had come to Meerut on a private visit. This time, my friend of JNU days, Akshaya Bakaya was with me. Age had taken its toll on the body of the old comrade, but his mind was as alert as ever. He was in an introspective mood, and was trying very sincerely to sound optimistic about the future and to assess the past and present of the Left movement in India and the world. He sounded very uncomfortable with the effective marginalization of the category of ‘class’ even amongst Leftist circles amidst their over-indulgence with the politics of social identities and castes.

Comrade Dang was a lamentably rare exemplar of the idea of a Communist – who while following the party-line honestly, showed intellectual competence and moral courage to think differently as well.


‘पैरघंटी’–‘नया ज्ञानोदय’ जून 2013 में प्रकाशित


सत्यजितजी का स्वरूप बड़ी तेजी से बदल रहा था। अधीनस्थों, खासकर निचले तबकों से संबंधित अधीनस्थों की चमड़ी कोड़े की तरह उधेड़ने वाली उनकी जबान पुचकार पाने को व्याकुल, लप-लप करती जीभ में बदलती जा रही थी। जिस कंठ-स्वर को सिंह-गर्जना का मानव-संस्करण मान, वे अपनी वंशावली पर गर्व करते थे, वह स्वर कूं-कूं की निरीहता पहले ही ओढ़ चुका था। देह दो पैरों की मुद्रा त्याग कर चारों पैरों पर आ चुकी थी। शरीर के पार्श्व भाग में, बढ़िया कपड़े के पैंट में से दुम धीरे-धीरे निकल रही थी, और तेज-तेज हिल रही थी।

उच्चकुलोद्भव, उच्चाधिकारी श्री सत्यजित इस समय मंत्रीजी के गुस्से को पुचकार में बदलने की साधना कर रहे थे। इस गुह्य साधना का साक्षी कोई नहीं था, सिवा साधक और साध्य के। हाँ, गगनविहारी देवता अवश्य यह दृश्य देख रहे थे। देख रहे थे, और बोर हो रहे थे। वे ऐसे दृश्य अनादि काल से देखते आ रहे थे, और चट चले थे। जिन्हें देवयोनि प्राप्त किये बहुत समय हो गया था, ऐसे देवताओं की बोरियत तो अब फटीग में बदलती जा रही थी। वे सब कुछ दिखाने वाली दिव्य-दृष्टि को कोसने लगे थे, मनुष्यों से ईर्षा करने लगे थे जो दिव्य-दृष्टि से वंचित होने के कारण, सब कुछ देखने से तो बचे ही रहते हैं, और जो देख सकते हैं, वह भी आम तौर से या तो देखते ही नहीं, या देख कर भी अनदेखा कर देते हैं।

इस समय श्वान-आसन साध रहे सत्यजितजी को उनके वैकुंठवासी पिताश्री प्यार से ‘राजन’ कहा करते थे। सत्यजितजी से जिनका वास्ता पड़ता था, वे सब जानते थे कि उनकी कृपा-दृष्टि उपलब्ध कराने वाला जंतर यही संबोधन था- ‘राजन’। उधर, मंत्रीजी के कैलासवासी पिताश्री उन कोई साढ़े-पाँच सौ श्रेष्ठ जनों में से थे, जिन्हें हर मैजेस्टी की कृपावंत हुकूमत ने ‘आलीजाह-बहादुर’, ‘दरबार’, ‘श्रीमंत’ आदि बनाए रखा था, और जिन्हें अपने जीवन-काल में कलि-काल का यह पातक देखना पड़ा कि देखते-देखते ही वे सल्तनते-बरतानिया के फर्जन्द-ए-खवास से भारत माता की संतान बनने को बाध्य हुए।

मंत्रीजी के स्वर्गवासी पिताश्री उनकी कुर्सी के ठीक सामने एक शानदार तस्वीर में मौजूद रहते थे। आबनूस के रोबीले फ्रेम में मढ़ी इस तस्वीर में स्वर्गवासी महाराजा के साथ स्वयं हिज एक्सीलेंसी वायसराय मौजूद थे। कुछ दरबारी मौजूद थे, पृष्ठभूमि में चंद जी-हजूरे भी मौजूद थे, हिज एक्सीलेंसी, महाराजा और दरबारियों के हाथों में राइफलें मौजूद थीं, जी-हजूरों के हाथों में तोड़ेदार बंदूकें मौजूद थीं, और नीचे की तरफ…

नीचे की तरफ वह शेर मौजूद था, जिसे सौ-पचास हाँके वालों की मेहनत के जरिए, पेशेवर शिकारियों की दक्षता के जरिए मारकर हिज एक्सीलेंसी और महाराजा ने ‘लाजबाव’ बहादुरी से शिकार करने का गौरव प्राप्त किया था। अपनी मौत में भी रोबीले दिख रहे शेर के सिरहाने हिज एक्सीलेंसी दि वायसराय खड़े थे, पाँव उसके सर पर और राइफल जमीन पर टिकाए। सल्तनत-ए-बर्तानिया के फर्जन्द-ए-खास महाराजा की भी राइफल जमीन पर टिकी थी, लेकिन पाँव शेर के सर पर नहीं दुम पर था।

कहाँ वह ज़माना कहाँ यह गया-गुजरा वक्त कि एक दिन तो यह शानदार तस्वीर कुछ देर के लिए ही सही, दीवार से हटानी पड़ गयी थी। मंत्रीजी नोट करते थे कि उनके कमरे में आने वालों में से कई लोगों को यह तस्वीर विभिन्न कारणों से खटकती थी…खटकती रहे…ब्लू ब्लड जिनकी शिराओं में बह रहा था, रायल खानदान के रोशन चिराग़ वे मंत्रीजी नसों में लाल खून लिए घूमने वाले ऐं-वें टाइप्स की परवाह क्यों करें? बल्कि इन लाल खून वाले हकीर इंसानों में से कुछ का तो खून लाल से सफेद हो गया था, इतने गुस्ताख़ हो गये  थे ये बेहूदे कि मंत्री जी को ‘महाराजा’, ‘श्रीमंत’ जैसे उचित संबोधनों की बजाय बस श्री या जी लगा कर या सर या महोदय कह कर संबोधित करते थे…ब्लडी इडियट्स, डर्टी फिल्द…

ऐसे मूर्खों की तो उपेक्षा ही उचित थी, लेकिन जब वर्ल्ड वाइल्ड-लाइफ फंड का एक शिष्ट-मंडल प्रोजेक्ट टाइगर की फंडिंग डिसकस करने के लिए आया था, तो इसी सत्यजित ने जान हथेली पर रख कर श्रीमंत को सलाह दी थी कि कुछ देर के लिए शेर के शानदार शिकार की यह जानदार तस्वीर कमरे से हटा दी जाए। सलाह सही थी, यह तब जाहिर हो गया जबकि शिष्ट-मंडल के एक सदस्य ने यह सुझाव दे डाला कि निजी संग्रहों से नहीं, तो कम से कम सरकारी और अर्द्ध-सरकारी संग्रहालयों से ऐसी सभी ‘ऑब्सीन’ तस्वीरें, पेंटिंग्स आदि हटा दी जाएं जिनमें अंग्रेज अफसर और उनके ‘नेटिव’ चापलूस शिकार किये हुए शेरों के साथ ‘वल्गर’ पोज दे रहे हैं। सुझाव देने वाला गोरी चमड़ी में न मढ़ा होता, तो अपने स्वर्गीय पिताश्री का अप्रत्यक्ष ही सही, इस गये गुजरे जमाने की वजह से ऐसा घोर अपमान करने वाले की चमड़ी खींच कर उसमें,  भुस भले न भर पाएं, श्रीमंत किसी और ढंग से हरामजादे को ठीक तो कर ही देते। लेकिन, एक तो गोरा, ऊपर से फंड का मामला, मंत्रीजी अपने ब्लू बल्ड का घूँट पी कर रह गये थे। मन ही मन सत्यजित की दूरंदेशी की तारीफ भी की।

उस दिन के बाद से,मंत्रीजी सत्यजित को अपना खास मुसाहिब मानने लगे थे, इस मान्यता के कारण सत्यजितजी का आलम सातों दिन चौबीसों घंटे यह रहने लगा कि ‘आजकल पाँव जमीं पर नहीं पड़ते मेरे…’

यह तस्वीर मंत्रीजी की मेज के ठीक सामने थी, और उसी मेज के नीचे थी वह पैरघंटी—फुटबेल—जिसके कारण सत्यजितजी इस समय श्वान-नृत्य कर मंत्रीजी को रिझाने की साधना कर रहे थे।

बात यह थी कि मंत्रीजी चपरासी को बुलाने के लिए हाथघंटी और पीए को बुलाने के लिए इंटरकाम का उपयोग नहीं करते थे। उन्हें अपनी मेज पर घंटी रखना सुहाता नहीं था, और इंटरकाम पर वे केवल अपने जूनियर मिनिस्टर से बात करते थे, सो भी बेमन से। घंटियों को मंत्रीजी मेज के ऊपर नहीं, मेज के नीचे, पाँव की पहुँच में रखते थे, एक चपरासी के लिए, एक पीए के लिए…

यहाँ तक तो सत्यजितजी के हिसाब से भी बात ठीक ही थी। चपरासी हो या  क्लर्क ग्रेड का पीए, ये सब इसी लायक हैं कि इन्हें हाथ के इशारे पर नहीं, पैर की ठोकर पर रखा जाए…लेकिन अब यह तो ठीक नहीं ना कि…क्या कहें, कैसे कहें…

मंत्रीजी अपने पीए को ही नहीं, पीएस याने श्री सत्यजित आईएएस को भी पैरघंटी से ही बुलाते थे। चपरासी और आईएएस को बुलाने का ढंग एक ही हो, यह तो प्रथम दृष्ट्या ही गलत था, ऊपर से घंटी भी हाथ से बजने वाली नहीं, पैरघंटी…इजंट इट टू मच, यार…

सत्यजितजी को बेहद बुरा लगता था मंत्री महाराजा का यह अविवेक; लेकिन आईएएस ट्रेनिंग की औपचारिक शिक्षा याद रही हो न रही हो, सार की बात अन्य बंधु-बांधवों की तरह उन्होंने भी मन में गोया फेविकोल से चिपका ली थी- निचले पायदान वाले के सर पर पाँव, और उपरले पायदान वाले के पाँव पर सर रखे रहना ही तरक्की की सीढ़ियाँ चढ़ते चले जाने का असली मंतर है। सो, पैरघंटी से बुलाए जाने को लेकर अपनी असुविधा उन्होंने मंत्रीजी के सामने जाहिर कभी नहीं होने दी थी। फायदा क्या था? कितनी भी खिसिया ले, बिल्ली खंभे का नोच क्या सकती है, उखाड़ क्या सकती है?

गुस्सा तो आता ही था, सो उसे  झेलने के लिए थे ना बहुतेरे तुच्छ प्राणी, जिनके अस्तित्व पर सत्यजित की जबान गुलामों के मालिक के हंटर की तरह चलती थी, जिनके कानों की तरफ सत्यजित के शब्द ताजा फटे ज्वालामुखी के खौलते लावे की तरह लपकते थे। इन्हीं तुच्छ प्राणियों में से एक इस वक्त सूली चढ़ी बैठी थी सत्यजितजी के कमरे में जबकि पैरघंटी की बुलाहट सुन कर उन्हें मंत्रीजी के चैंबर की ओर लपकना पड़ा था, उस हरामजादी काली-कलूटी ओबीसी को वार्न करके ही निकले थे सत्यजितजी कि जब तक वापस ना आएं, खबरदार, हिलना मत, यहाँ से। मंत्रीजी के कमरे की ओर लपकते हुए सत्यजित की भुनभुनाहट जारी थी…’सर ही चढ़ते चले जा रहे हैं, यार ये लोग तो, इस को तो यह गुमान भी  है ना कि बिना रिजर्वेशन के सर्विस में आई है, आई होगी, रहेगी तो ओबीसी ही ना, रिजर्वेशन नो रिजर्वेशन….खानदान थोड़े ही बदल जाएगा, औकात थोड़े ही बदल जाएगी…बैठी रहना, अभी वापस आकर बताता हूँ तेरी औकात, बेहूदी चिरकुट, जबसे दफ्तर में आई है, मेरे बनाए नोट में गलतियाँ निकालती रही…और अब चली है स्टडी लीव माँगने…’

खिसियाहट इस वजह से कई गुनी हो गयी थी कि पैरघंटी उस कलूटी के सामने ही बज उठी और सत्यजितजी का तन-मन बेकाबू होकर रिफ्लेक्स एक्शन करने लगा था। घंटी बजते ही वे उछले, दरवाजे की ओर लपके, हड़बड़ाए शरीर का धक्का खा कर कुछ फाइलें मेज से धराशायी हुईं, संभलने के चक्कर में खुद गिरते-गिरते बचे। अपने आपको बचपन में सुने मुहावरे-लजवन पचाने- पर अमल करते पाया, कलूटी को सुनाते हुए बोले, “काम करना पड़ता है, इंपोर्टेंट पोजीशन पर…आपकी तरह नहीं….”

हिम्मत…हिम्मत देखो नालायक की, चट से बोली, ‘काम सब करते हैं…’

दरवाजे तक पहुँच चुके सत्यजित पलटे थे, ‘ सब पता है, सूरत देख कर ही जान गया था कि जिन्दगी भर हराम की खाई है, कभी काम नहीं किया है…मस्ती की है बस…और अब मस्ती के लिए ही यह स्टडी लीव का नाटक…’

‘भगवान से डरिए, सर…’

हद है, यार कितनी चलती है जबान इस हेहर की। ठीक है कि इस ऑफिस में नयी आई है, मेरे रोब-दाब से वाकिफ नहीं, लेकिन यह तो हद ही है, ऐसी की तैसी इसकी…

‘स्टडी लीव तो आप भूल ही जाइए, मैडम…और अगर किसी तरह ले भी ली, तो लौट कर तो यहीं आना है, देखना कैरियर की ऐसी-तैसी न कर दी तो मैं भी राजन…आई मीन सत्यजित नहीं…’

उठ खड़ी हुई थी , वह,सो भी लुंज-पुंज नहीं, आँखों में आँसू भर कर नहीं। सीधी रीढ़ के साथ, सचाई भरी, सहज ही चमकती आँखों के साथ…इसे तो ठीक करके ही रहूँगा…एकाएक सत्यजितजी ने मन ही मन अरसा पहले वैकुंठवासी हुए पिताश्री के साथ-साथ कुछ ही महीने पहले ब्रह्मलीन हुए मुखियाजी की भी कसम खाई, और साथ ही वे अपनी धरती से भी जुड़ गये, यह बदतमीज औरत भी तो उसी धरती की थी… ‘चलतानी कहुँवा, बइठल रहीं, रउआ से त अभी ठीक से बात करि के बा.., रिमैन सीटेड, मिनिस्टर साहब से मिल कर आता हूँ फिर बताता हूँ तुम्हें कि कैसे बात की जाती है, सीनियर अफसर से…भगवान से डरिए…यू ऐंड यौर भगवान…माई फुट…’

कहते कहते सत्यजितजी अपने भगवान के मंदिर की ओर लपक लिए थे। प्रवेश करते ही पाया कि उनके भगवान इस समय वरदहस्त मुद्रा में नहीं, खड्गहस्त मुद्रा में थे। छूटते ही बोले  ‘सुना है आपको पैरघंटी से कुछ परेशानी है, यू आर वेरी अपसेट विद दि  फुटबेल एरैंजमेंट..’

फुटबेल का जिक्र अपने भगवान के मुख से इस प्रकार सुनते ही, तुच्छ प्राणियों के वे ही भगवान जिनकी शान में अभी-अभी ‘माई फुट’ की घोषणा करके आए थे, सत्यजितजी को याद आने लगे।

‘नो सर, नो सर…आई मीन…’ मन ही मन बूझ रहे थे कि चुगलखोर कौन है, चुगलखोर भी क्या साला आदत से मजबूर…यह सिंह कमीना…खाने में तो हरामजादा पत्थर भी पचा जाए लेकिन बात जरा सी नहीं पचा सकता…मैं भी तो चूतिया हूँ, उसके सामने मुँह से निकल कैसे गयी इस साली फुटबेल की बात…

मंत्री भगवान जारी थे, ‘ सुना है कि आपको इतनी बुरी लगती है हमारी फुट-बेल कि केब-सेक से बात करने जा रहे हैं…सीधे पीएम से ही मिल लीजिए ना…हमीं एपाइंटमेंट फिक्स करवा देते हैं आपका, फिर आराम से शिकायत कीजिएगा, हमारी नौकरी ही ले लेंगे आप तो, भई हम लोग तो वैसे ही आने-जाने, कौन सा चुनाव हार जाएं क्या पता, आप ठहरे परमानेंट सरकार, गवर्नमेंट के स्टील-फ्रेम… चुनाव हार गये तो आप लोगों की  इस बिल्डिंग में हम तो घुस भी न पाएं…’

मंत्रीजी की आवाज जरा भी ऊंची नहीं थी, एकदम संतुलित स्वर में बात कर रहे थे।

सत्यजित के पाँवों तले चिकना वुडेन फ्लोर नहीं था, हड्डियों  से भरी ऊबड़-खाबड़ जमीन थी। दीवारों पर उम्दा लकड़ी की चमकीली मढ़ावट नहीं थी, जंगल की पहाड़िया का चितकबरापन था। आँखों की पुतलियों पर खुद निगाहों से ओझल रह कर, दूधिया रोशनी फैलातीं बत्तियों की चमक नहीं थी, घनघोर अंधेरा था। उनके आस-पास रूम-फ्रेशनर की भीनी-भीनी सुगंध नहीं थी, मृत देहों की आदिम दुर्गंध थी…

शिकार वाली तस्वीर का शेर जैसे जिन्दा हो गया था… सत्यजित को इतमीनान से निहार रहा था, खिला-खिला कर चबाने के मूड में लग रहा था।

‘ जाहिर है कि…’ मंत्रीजी जारी थे, ‘ आपके जैसे कंपीटेंट ऑफिसर की जरूरत तो आपके होम-काडर को भी होगी ही…’

हे भगवान, अब दिल्ली से रवानगी…वापस महाराष्ट्र…चलो ग़नीमत है…

लेकिन शेर ने अभी तो अंगड़ाई ही ली थी… ‘ हम खास रिक्वेस्ट करेंगे सीएम से कि आपकी कंपीटेंस और तजुर्बे का, आपकी इंटिग्रिटी का सही इस्तेमाल करें, गड़चिरोली में नक्सल चैलेंज के सामने आपके जैसा बहादुर और खानदानी अफसर ही टिक सकता है…’

पहली बार शेर हल्के से दहाड़ा, पहली बार मंत्रीजी के मुँह से आप की जगह तुम निकला ‘ आई विल पर्सनली एन्स्योर कि तुम्हें गडचिरोली में ही पोस्ट किया जाए…’

आवाज में फिर वही स्थिरता… ‘ऑफ कोर्स सीनियरिटी तो कंसीडर होगी ही, देयरफोर यू ऑट बी देयर इन ए सुपरवाइजरी कैपेसिटी, स्पेशल पोस्टिंग पर…बट गडचिरोली टु बी श्योर…’

इस भयानक दशा में भी सत्यजित को वह चुटकुला याद आ गया, ‘पिताजी शेर के सामने पड़ गये थे…अच्छा तो फिर क्या किया उन्होंने…उन्हें क्या करना था…जो कुछ किया शेर ने ही किया…’

लेकिन यहाँ तो कुछ करना ही पड़ेगा…वरना गड़चिरोली…नक्सल…

लेकिन, कैसे? क्या?

शेर खिलकौटी के मूड में ही बना हुआ था, ‘होम-काडर वापस भेज रहे हैं आपको…थैंक्यू सर भी नहीं कहेंगे क्या आप मिस्टर सत्यजित आईएएस?’

मिल गया, डूबते को जिस तिनके की तलाश थी, मिल गया, चुटकुले वाले पिताजी की नियति से निकलने का जरिया मिल गया…

‘गलती तो सेवक से हुई है, श्रीमंत, लेकिन इतना अनसिविल तो आपका यह सर्वेट सपने में भी नहीं हो सकता कि महाराज को सर कहे, आप जो कहें मंजूर है, लेकिन यह गुस्ताखी तो मुझसे मरते दम तक नहीं होगी कि श्रीमंत या महाराज के अलावा कोई संबोधन दूँ, आपके पीठ-पीछे भी ध्यान रहता है मुझे…’

मंत्रीजी जरा सा मुस्कराए, सेवक की हिम्मत बढ़ी, ‘मैं तो  सपने में भी आपको हिज हाइनेस कह कर ही याद करता हूँ, यौर हाइनेस…’

मंत्रीजी की मुस्कान थोड़ी और चौड़ी हुई, सर्वेंट की सिविलिटी कुछ और मुखर हुई, ‘ प्लीज पनिश मी इन वाटएवर वे…लेकिन श्रीमंत अपने श्रीचरणों से दूर न करें मुझे…गुस्ताखी तो हुई है, लेकिन बस एक लास्ट चांस…’

मंत्रीजी के मुस्कराते मौन के संकेत ग्रहण कर, सत्यजितजी का स्वरूप परिवर्तित हो रहा था। उनकी जबान पुचकार पाने को व्याकुल, लप-लप करती जीभ में बदलती जा रही थी, कंठ-स्वर कूं-कूं की निरीहता  ओढ़ चुका था। देह दो पैरों की मुद्रा त्याग कर चारों पैरों पर आ चुकी थी। शरीर के पार्श्व भाग में, बढ़िया कपड़े के पैंट में से दुम धीरे-धीरे निकल रही थी, और तेज-तेज हिल रही थी।

अब उनके पाँवों के नीचे हड्डियों से भरी ऊबड़-खाबड़ जमीन नहीं, चिकना वुडेन फ्लोर था। जंगल की पहाड़िया के चितकबरेपन की जगह दीवारों पर उम्दा लकड़ी की चमकीली मढ़ावट थी । आँखों की पुतलियों पर घनघोर अंधेरे की जगह, खुद निगाहों से ओझल रह कर, दूधिया रोशनी फैलातीं बत्तियों की चमक थी। आस-पास मृत देहों की आदिम दुर्गंध की जगह रूम-फ्रेशनर की भीनी-भीनी सुगंध थी।

मंत्रीजी देख रहे थे, सुन रहे थे। सत्यजित दुम हिलाते हुए अगली दोनों टाँगें उठाए, नृत्य कर उन्हें रिझा रहे थे, उनकी वंश-विरुदावली गाने में पेशेवर चारणों को पीछे छोड़ रहे थे। स्वयं मंत्रीजी का ऐसा गुणानुवाद कर रहे थे कि उनका क्रोध लाड़ में बदलता जा रहा था, वे मन ही मन कुछ अनौपचारिक भी हो रहे थे, उसी अनौपचारिक मुद्रा में उनके मुँह से लाड़ भरे शब्द निकले, ‘ क्यों ऐसी चापलूसी कर रहे हो, यार कि मेरे पेशाब की गंध को मलयानिल बनाए दे रहे हो, और कुछ नहीं तो अपने नाम का ही लिहाज करो…सत्यजित…’

इन लाड़ भरे शब्दों ने सत्यजितजी को आश्वस्त भी कर दिया और प्रगल्भ भी। कूं-कूं करते आए और श्रीमंत के श्रीचरणों में थूथन रगड़ने लगे। आश्वस्त प्रगल्भता की तरंग में उनके मुँह से जो शब्द निकल रहे थे, उन्हें सुन कर यह दृश्य, बोरियत या दिलचस्पी से देख रहे देवता उलझन में थे कि सत्यजित की स्पष्टोक्ति पर पुष्प-वर्षा करें या उनकी निर्लज्जता पर प्रस्तर-वर्षा। देवताओं की उलझन से बेखबर सत्यजित कुंकुंआए जा रहे थे— ‘ नाम के इन एकार्डेस ही तो चल रहा हूँ, यौर हाइनेस!  मेरा नाम न तो सत्यकाम है कि सत्य की कामना करूँ, न सत्यप्रिय कि इसे प्यार करूँ। मैं तो सत्यजित हूँ। जीत लिया है मैंने सत्य को, ऐसा जीता है कि इसका जो चाहूँ मैं, यार करूँ, प्राण ले लूँ या बलात्कार करूँ… आपका पेशाब क्या, शिट भी साफ करवाऊं…मजाल है सत्य की कि चूँ भी कर जाए…सत्य को जीत लेना काम है मेरा, सत्यजित नाम है मेरा…सत्यजित रा…’

वक्त रहते सँभल गये, सत्यजित। ‘राजन’ कहने वाले स्वर्गीय पिताश्री का लाड़ इस पल याद करना अभी-अभी, मुश्किल से कमाए गये महाराजश्री के लाड़ का कबाड़ कर सकता था। बात फौरन पटरी पर लाए, ‘सत्यजित…रा…मतलब, आप का, राजकुलदीपक आपश्री का चाकर…आपका सदा वफादार सेवक हूँ मैं श्रीमंत, सत्यजित हूँ मैं…विजेता सत्य का, अब इसका जो चाहे मैं यार करूँ, प्राण ले लूँ या बलात्कार करूँ…’

मंत्री-महाराज का लाड़ और उमड़ा, पैरों पड़े सत्यजित का सर सहलाया, बोले, ‘उठो, ठीक है, बहुत हुआ, दुम अंदर करो, आगे से ख्याल रखना, जाओ अब…’

‘जो हुकुम दरबार का..’ कहते कहते सत्यजितजी ने दुम पैंट के अंदर की, और लटकती जीभ मुँह के अंदर…कमरे से निकले, और जंगल में टहलते शेर की अदा से अपनी गुफा की ओर चले, जहाँ उस हेहर औरत को छोड़ आए थे। ऊपर वाले के पांव पर सर रगड़ आने के बाद, अब ट्रेनिंग-सार के दूसरे हिस्से पर अमल करने का समय था। अब नीचे वाले के सर पर पांव रगड़ने का समय था। अपने असली भगवान को तुष्ट कर चुकने के बाद ‘भगवान से डरिए’ कहने वाली इस हेहर को और उसके भगवान को ठीक कर देने का समय था। अब कुकुरावतार से शेरावतार में संतरण का समय था। अब इस कुतिया को चींथ कर फेंक देने का समय था।

‘ऐसा सबक सिखाऊंगा, कुतिया को कि सारी हैन-तैन सदा के लिए भूल जाएगी…’ कमरे में घुसते ही गुर्राए, ‘ यस, वेल…मैडम सिंसियर…’

लेकिन कुर्सी तो खाली थी, गुर्राहट मन ही मन दहाड़ में बदल गयी, यह मजाल, यह गुस्ताखी…अब तो साली को सस्पेंड करके ही दम लूंगा, ऐसा इनसबार्डिनेशन….यह हुकुम-उदूली…कह कर गया था कि यहीं मरी रहना…और उठ कर चल दी…’

अपनी कुर्सी पर बैठ, पीए को बुलाने के लिए इंटर-काम उठाया सत्यजितजी ने कि सस्पेंशन लेटर डिक्टेट करें कि सामने रखे कागज पर निगाह गयी…अरे यह तो वही है…इस कागज में मुँह चिढ़ाती, नाक पर अंगूठा रख कर लिल्ली-टिल्ली करती…यह तो मेरी मेज पर, बल्कि मुँह पर इस्तीफा मार कर चल दी…चल कहाँ दी… इस्तीफे के इस सड़े से कागज में से झाँक तो रही है…उन्हीं चमकीली, साफ आँखों से…टिल्ली-लिल्ली कर रही है, उसी काली-कलूटी रंगत में चमक रही है, चिढ़ा रही है मुझे…लिल्लली—टिल्लली…

गगनविहारी देवताओं को मजा आ गया। ऐसे दृश्य कहाँ रोज-रोज देखने को मिलते थे। ऊब और फटीग के शिकार बुजुर्ग देवता पुष्प-वर्षा की तैयारी में लग गये। युवतर देवगण तो उस कलूटी की जय-जयकार करते हुए उसकी चिढ़ोक्ति में अपना भी योगदान करने लगे…लिल्लली-टिल्लली..

शिकार जिसके पंजे से निकल गया, उस शेर की दहाड़ से गूंज उठा कमरा…लेकिन जिसे सत्यजित दहाड़ समझ रहे थे, वह देवताओं को भौं-भौं सुनाई दे रही थी…बेबस भौं-भौं जो बीच-बीच में तो कूँ-कूँ की तरफ भी बढ़ उठती थी…

सत्यजित मन भर कर दहाड़ या भौंक भी नहीं पाए थे कि एकाएक मेज पर रखी पैरघंटी बज उठी और अभी-अभी सबक सीख कर आए श्री सत्यजित तेजी से स्वरूपांतरण की प्रक्रिया में लग गये… भौं-भौं को उन्होंने तुरंत ही उचित स्वर-ताल वाली कूं-कूं में बदला। कुछ ही देर पहले जो अंदर की थी, वह दुम फिर से पैंट के बाहर धीरे-धीरे निकलने और तेज-तेज हिलने लगी।

सत्यजितजी श्रीमंत के कमरे की ओर लपक लिये।