Poetry

A few of my poems:

अश्वमेध

तुम बहुत सरपट दौड़े हो
थोड़ा ठहर जाओ
न, तुम नहीं थके,
जानता हूँ
लेकिन तुम्हारी दौड़ ने बहुतों को कुचला है
ठहर जाओ.

तुम्हारी रगों में फड़कती बिजली
तुम पर नहीं
दूसरों पर गिरती है
कोई वल्गा नहीं तुम्हारे मुँह में
फ़िर भी तुम्हारी पीठ खाली नहीं
वहाँ सवार है पताका
जिसकी फहराती नोंक
तुम्हें नहीं दूसरों को चुभती है
ठहर जाओ.

तुम पूजित हो, अलंकृत हो
ऊर्जा तुममें छटपटाती है

सारी दूब को रौंद कर जब तुम लौटोगे
बिना थके भूमंडल को नाप लेने के
उन्माद से काँपते, सिर्फ़, सिर्फ़ उत्तेजना के कारण
हाँफते
तब तुम्हें काट डालेंगे
वे ही लोग – जिनके लिए तुम दौडे थे.

वे काट डालेंगे
तुम्हारा प्रचंड मस्तक.

तुम्हारा मेध
उनका यज्ञ है .

.

.

चिट्ठी

मैं हरिद्वार आऊँगा, समीर
तुमसे मिलने, ख़ुद से मिलने
बहुत दिनों, महीनों, बरसों सोचा
चिठ्ठी लिखूं
लिखकर पूरी नहीं कर पाया,
जो लिखना था नहीं लिख पाया

गोरख पांडे कनकराज की राह गए, समीर
उनका फ़ैसला अखबार में छ्पा है
लेकिन बहती नदी ने तुमसे…
तुमसे ज़रूर वह भी कहा होगा
जो अखबार में नहीं छपा है.
उसे सुनने आऊँगा, समीर
भगीरथी को छूने.

तुम्हारी कविता में वह बौद्ध भिक्खु आया
उसने वह कुआँ दिखाया
जिसमें पानी था, मंत्र भी दिया -’एत्थ’
फिर डूब गया – गहरे मौन में
मैं ही नहीं समझ पाया
मैं ही नहीं चल पाया.

लेकिन एक दिन ऐसा आएगा, समीर
जब मैं आऊँगा हरिद्वार
तुमसे मिलने, ख़ुद से मिलने
चल कर आऊँ या उड़ कर
बस में आऊँ या कलश में
आऊँगा ज़रूर
किसी दिन.

.

.

स्मृति

नाचते मोर के पैरों की हरक़त
जिससे मनुष्य ने सीखा कत्थक
ताथेई…….ताताथेई…….. ताथेई…….. ता….

घनी हरियाली में छुपती
सिर्फ़ बेचैन आत्मा को दिखती…..कोयल की कूक

उस पल के नाजुक संतुलन में विफलता
सच को देख पाने, सह जाने और कह पाने में चूक

बाक़ी बस कलेजे के अनंत सूराख
में बरबस उठती हूक.

.

.

उत्तररामचरित का एक श्लोक हिन्दी में

पड़ते हैं हृदय पर घन मार घन
टुकडे टुकडे तब भी हुआ नहीं मन
काया चाहे अकुलाए बार बार मोहवश
लेकिन मूर्च्छित नहीं है तब भी चेतन
एक आग सी लगती है सारी देह में
फ़िर भी भस्म नहीं हुआ है ये तन
कितने ही प्रहारों से भेदे मर्म विधि
नहीं होता, नहीं होता, नहीं होता नष्ट ये जीवन.

.

.

विद्याधर

पुरानी किताब पलटते पलटते
पड़ी एकाएक निग़ाह
ओह!
यह तो पंख है
उसी सुनहरी तितली का
जिसके पीछे बरसों दौड़ा किया था
मैं.

एक पल पकडी ही गयी
तितली
आह!
कैसी थरथराती छुअन
कैसे चितकबरे धब्बे सुनहरे पंख पर
जैसे धरती से फूटा इन्द्रधनुष.

किताब, कापी के पन्नों के बीच दबा
तितली का पंख विद्या देता है
बताया गया था मुझे.

पंख नुचा, तितली मरी
मैं बना विद्याधर !

.

.

वसीयत

छूट गयीं जो अधूरी, मुलाकातें तुम्हें देता हूँ
हों न सकी जो बातें, तुम्हें देता हूँ
जो कवितायें लिख न पाया, तुम्हें देता हूँ
जो किताबें पढ़ न पाया, तुम्हें देता हूँ

मर कर भी न मरने की यह वासना
स्मृति की बैसाखियों पर जीने की यह लालसा
तुम्हारी कल्पनाओं, यादों के आकाश में
तारे की तरह टिमटिमाने की यह कामना
यह भी तुम्हें देता हूँ

जहाँ से शुरू होती है आगे की यात्रा
वहाँ से साथ रहना है सिर्फ़ वह जो किया
अपना अनकिया सब का सब
पीछे छोड़
कभी वापस न आने का वादा
तुम्हें देता हूँ.

.

.

समुद्र किनारे मीरा

तुम्हारी बाट देखते देखते
मैं स्वयं आ पहुँची तुम तक
मेरे समुद्र श्याम
अब तो अपनी बनाओ मुझे – निठुर

मत भरमाओ मुझे
मत छलो स्वयं को अब और
ये जो उठती लहरें
जिनकी बेचैनी बढ़ती पल प्रतिपल
ये लहरें नहीं तुम्हारे गहन अंतस में
छुपी उत्कंठाएँ हैं – लालसाएँ हैं ये – प्रिय मेरे.

यह जो विस्तार फैला वहाँ तक दूर तलक
यह विस्तार तुम्हारे पुष्ट, सांवरे वक्षस्थल का है
समुद्रश्याम
अँकवार लो मुझे
यह जिसे सब अस्ताचलगामी सूर्य सा देख रहे हैं
यह तो है स्यांतक मणि
द्विगुणित कर रही अपनी शोभा
तुम्हारे वक्षस्थल के मादक वर्ण से

तुम्हारा वक्षस्थल जिसके वर्ण में
घुल मिल गया है मेरी पुतलियों की
आतुरता का वर्ण
जिसमें समा गयी है मेरी आंखों की प्रतीक्षा
इतने लोभी हो तुम सांवरे,
तुमने मन ही नहीं, वर्ण भी हर लिया है
समर्पिता का

खड़ी हूँ तुम्हारे किनारे
यहाँ आ पहुँचने के बाद
उत्कंठा से – लज्जा से आरक्त
वैदूर्यमण्डित, स्यांतकसज्जित
तुम्हारे वक्ष के वाष्प से पूरित
आपादमस्तक प्रेमालोकस्नाता स्त्री मैं
खड़ी हूँ तुम्हारी पुकार की प्रतीक्षा में
तुम्हारे स्पर्श की बाट जोहती – साँवलिया !

पगतलों में अपनी लालसा लहरों से गुदगुदी करके
सताओ मत निर्दयी
पल पल खिसकती है पाँव तले से धरती
डर लगता है ना………नाथ जी!
पगतल को गुदगुदा कर लौटती हर लहर
रेत को ही नहीं थोड़ी थोड़ी कर मुझे भी ले जाती है
अपने साथ…..
कितना मीठा है डर ………..कितना मादक धीरे धीरे रीतना……
अब न लौटूँगी कान्हा…..पूरी की पूरी रीते बिना

लौटने में चमकता अँधेरा है……..स्वर्ग का…..धर्म का..
डरती हूँ घिर ना जाऊँ सदा के लिए चमकीले अंधेरे में
छोड़ आई सब कुछ पीछे
मेड़ता, मेवाड़, वृन्दावन……. सारे रण
पीछे छूट गए हैं तुम्हारी सखी से…….रणछोड
सम्मुख है केवल नील ज्योति प्रसार
शुद्ध श्यामल पारावार
तुम्हारा अनंत प्यार
विराट वक्ष – मेरे एक आधार
अब ना लौटाओ मुझे
बढ़ाओ बाँहें समा लो मुझे …..छुपा लो
छुपा छुपी में अब तो खिला लो मीता
अपनी मीरा को
लो मुझे……..मैं आई……..समुद्रश्याम

(originally published in Pratilipi)

.

9 Responses to “Poetry”

  1. manjula says:

    hope u r on kavitakosh.org

  2. rakesh achal says:

    आदरणीय ,आपकी कविताये पढ़ी,खूब है..मैंने भी आपकी और अपना नया गजल संग्रह भेजा है,मिलगया होगा. आपकी स्वीकृति की रह देख रहा हूँ.
    आपका
    राकेश अचल
    ग्वालियर

  3. Bushdaffifs says:

    बहुत ही रोचक धन्यवाद,

  4. manjula says:

    nice to hear from a poet. thanks

    • manjula says:

      आत्मा का मुक्त पंछी फिर किलोरें भर रहा है
      काट कर हर पाश को फिर उड़ रहा है !
      बहुत सुन्दर उदगार हैं इन अभिव्यक्तियों में . ह्रदय की अकुलाहट है और नितांत सच्चाई जो मधुर भी है . साधुवाद

  5. manjula says:

    भाषा के पट बंद करो अब

    तरसें हम ऐसे चुम्बन को
    आजीवन अनवरत सदा से
    देह पाए स्पर्श अलौकिक .
    सागर जल भिक्षा मांगे – मोती
    तोड़ तनिक तो भित्ती .
    तड़प कुमुदिनी हाय कैसे ,
    खोजे उन्मादी प्रेमी को !
    नित्य निशा, मैं खोलूं खिड़की
    कहूँ चाँद से आ मिलने को
    ढक मेरे मुख को अपने से .
    भर श्वान्से अपनी मेरे में .
    भाषा के पट बंद करो अब ,
    खोलो खिड़की प्रेम राग की .
    चाँद नहीं आता द्वारे से ,
    झांके वह केवल खिड़की से !

  6. karan says:

    With warm regards,
    Hope you like reading it.

    सारस के जोड़े को मैंने, प्यार में पड़ते देखा है,
    जंगल के राजा को, अंगड़ाई भरते देखा है।
    जलकौवे के डैनों से पानी को झरते देखा है,
    हिरणों के चरते झुण्ड को मैंने, खुदसे डरते देखा है।

    गंगा जल में सोस को मैंने, गोता भरते देखा है,
    बन्दर को उसकी मम्मी का, थप्पड़ पड़ते देखा है।
    लेह की बर्फीली रात में, श्वान ठिठुरते देखा है,
    रोती भैंस को अपने बच्चे से, मैंने बिछुड़ते देखा है।

    वन- बिलाव को छुपकर मेरा, पीछा करते देखा है,
    उदबिलाव को महसीर के, पीछे पड़ते देखा है।
    जंगली गधे मैंने खुदसे, घबराते भी देखा है,
    भरल के झुण्ड को डर भूलकर, पास आते भी देखा है।

    झरने की बूंदों से मैंने बादल बनते देखा है,
    नदिया की धारा में मैंने, भंवर को चलते देखा है।
    चित्रकोट के फेन में, सुरधनु को चलते देखा है,
    सिन्धु के बर्फीले जल में, खुद को पिघलते देखा है।

    महिसागर के कीचड में, पैरों को धंसते देखा है,
    तापी के नन्हे मछुए को, मुझपे हँसते देखा है।
    जमना के छिछले जल में, नैया को फंसते देखा है,
    प्रयागराज संगम पे पूरे, देश को बसते देखा है।

    नर्मदा के नीले नीर में, मिली मुझे निर्मलता,
    तीस्ता ने सिखलाई मुझको, चंचलता और चपलता,
    कावेरी ने दो पल रूक, बतलाई धैर्य की महत्ता,
    चम्बल के बीहड़ में भी, दिखी मुझे सुन्दरता।

    कृष्णा- गोदा- सोन को, मैहर से निकलते देखा,
    केन, बेतवा, ब्रह्मपुत्र को, बस पुल पर से ही देखा।
    कैसे भुला उस सरिता को, जो भारत की जीवन रेखा,
    गंगा तुम अब मलिन हुई, जब सब ने किया अनदेखा।

    भागीरथी बनकर निकली थी, शुभ्र धवल गौमुख से,
    अलकनंदा ने साथ दिया, मिल गयी जब आकर सुख से,
    धौली, नंदा, पिंडर और मंदा, के जल में थी निर्मलता,
    अमृत था वह जल जो हरता, मनुपुत्रों की दुर्बलता।
    ऋषिकेश तक रही वेगवान, हरिद्वार तक शीतल,
    कानपुर से बहकर जब निकली, फिर कभी न रही निर्मल।
    प्रयाग में जब मिली अनुजा से, व्यथित उसे भी पाया,
    काशी में भोले ने तुमको, पुनः गले लगाया।
    पाटलिपुत्र जब पहुंची, तब कई बहनें मिलने आई,
    पर जो शुचिता तुमने खोई, वापस कभी न पायी।
    अब सागर से मिलना केवल रही एक अभिलाषा,
    विलीन स्वयं को कर जलधि में, थी निर्मलता की आशा।
    व्यथा तुम्हारी, कई बार, तुमने है मुझे सुनाई,
    पुत्र स्वयं का मान मुझे, मुझसे एक आस लगाई।
    बड़ा नहीं मैं, न ही भीष्म, जो प्रण भीषण ले पाऊं,
    या कि तुमको निर्मल कर दूँ या, अगले दिन मर जाऊं।
    व्यथा तुम्हारी, है मेरी भी, ये तुमको बतलाऊं,
    जो बन बैठे वो करने में, पूरा जोर लगाऊँ
    जो बन बैठे वो करने में, पूरा जोर लगाऊँ…

  7. चंद्रकांता says:

    सारी दूब को रौंद कर जब तुम लौटोगे
    बिना थके भूमंडल को नाप लेने के
    उन्माद से काँपते, सिर्फ़, सिर्फ़ उत्तेजना के कारण
    हाँफते
    तब तुम्हें काट डालेंगे
    वे ही लोग – जिनके लिए तुम दौडे थे.

    ये पंक्तियाँ हमने पहले भी पढ़ी हैं और आज फिर इनके आकर्षण में बंध गए हैं.रियलिटी की बेहद जबरदस्त कौंध है इनमें ..

Leave a Reply to jamal