Contextualizing Kabir: Full Speech

2 Responses to “Contextualizing Kabir: Full Speech”

  1. कबीर पर आपका यह व्याख्यान सहेज कर रखने योग्य है.. मेरे जैसे साहित्य की कम समझ रखने वाले लोगों में कबीर के बारे में एक नयी समझ पैदा करता है आपका यह व्याख्यान.. आपकी किताब को पढ़ने की ललक बढ़ गयी है.. अवश्य ही यह अपने समय की महत्वूर्ण किताबों में से एक होगी..

  2. Dharm Narayan Yadav says:

    Sir, Kabir par aapko sunna ek anubhav se gujaranaa hai. aapka yah vyakhyaan adbhut aur vicharottejak hai. JNU ke kabiri Vyakhyaano ki yaadein taazi ho gayi hain. Kabir par aapke Lambe chintan ka suphal ab Hindi Sahitya evam samaaj ke samne hai…..
    Pranaam Bhav ke sath
    D N Yadav

Leave a Reply to Dharm Narayan Yadav